Home > Local News > हरिद्वारः मोबाईल स्नेचिंग गिरोह के चार आरोपियों को धर दबोचा

हरिद्वारः मोबाईल स्नेचिंग गिरोह के चार आरोपियों को धर दबोचा

 Inam Ansari |  2017-02-25 18:32:48.0  0  Comments

हरिद्वारः मोबाईल स्नेचिंग गिरोह के चार आरोपियों को धर दबोचा

हरिद्वारः थाना सिडकुल में नकबजनी एवं मोबाईल स्नेचिंग करने वाले गिरोह के चार आरोपियों को पुलिस ने धर दबोचने का दावा किया। प्रेस वार्ता में सीओ सदर जे0पी0 जुएल ने बताया कि सिडकुल क्षेत्र में बड़े पैमाने पर मोबाईल छीनने की घटनायें हो रही थी जिसको लेकर लोगों में भी काफी डर भय बना हुआ था एस0एस0पी0 के निर्देशानुसार टीमों का गठन कर ऐसे आरोपियों की धरपकड़ के प्रयास तेज किये गये। उसी के चलते रात्रि में नवोदय चौक से वाहन पर सवार होकर कुछ युवक गुजर रहे थे। चैंकिग के दौरान पुलिस टीम द्वारा युवकों को रोकना चाहा लेकिन बाईक पर सवार युवक भागने की जुगत में लग गये लेकिन पुलिस टीम की तत्परता के चलते आरोपियों को चैंकिग के दौरान पकड़ा गया। जामा तलाशी ली गई तो आरोपियों के पास से संदिग्ध सामान बरामद किया गया। कड़ाई से पूछताछ करने पर पकड़े गये आरोपी पवन पुत्र रामकुमार हाल निवासी-रावली महदूद, महेन्द्र उर्फ भोलू पुत्र बलवीर सिंह, हाल निवासी-रोशनाबाद, राकेश पुत्र ठकरा सिंह निवासी-रोशनाबाद, कबीर पुत्र युसुफ निवासी-रोशनाबाद को धर दबोचा कड़ाई से पूछताछ करने पर इन्होंने सिडकुल में वाहन चोरी मोबाईल स्नेचिंग की वारदाताओं को करना स्वीकार किया। आरोपियों के पास से भारी मात्रा में इन्वर्टर, बैड का गद्दा, बैटरा, एल0सी0डी0, छीने गये कई मोबाईल के अलावा तीन मोटरसाईकिलें भी बरामद की गई।
सीओ सदर जे0पी0 जुएल ने बताया कि सिडकुल क्षेत्र में काफी वाहन चोरी की वारदातें हो रही थी साथ ही सिडकुलकर्मियों के मोबाईल छीनने की घटनायें भी सरेराह बढ़ गई थी। चारो आरोपी सड़कों पर ग्रुप बनाकर मोबाईल छीनने की घटना को अंजाम देते चले आ रहे थे। आरोपी आर्थिक लाभ लेने के लिए औने पौने दामों में इन सामानों को बेच देते थे। जबकि पकड़े गये चारों आरोपी बिजनौर के हैं लेकिन काफी समय से चारों आरोपी रोशनाबाद में ही किराये के मकान में रहकर घटनाओं को अंजाम देते चले आ रहे थे। जबकि एक आरोपी फरार है भोला पुत्र ठकरा सिंह जिला-बिजनौर फरार आरोपी को भी धकपकड़ के प्रयास किये जा रहे है। भारी मात्रा में मोबाईल एवं मोटरसाईकिल बरामद होने से बड़े गैंग पर अंकुश लग पाया है। घटना के खुलासे के लिए टीम को ढाई हजार ईनाम की भी घोषणा की गई। टीम में थानाध्यक्ष कमल मोहन भण्डारी, दीपक मैठाणी, हैड कॉ0 ब्रिजेश त्रिपाठी, इकबाल मलिक, संजय सिंह, आशीष नेगी, प्रदीप मैठाणी, नरेन्द्र सिंह राणा आदि उपस्थित रहे। --हाक न्यूजलाईन

Tags:    
Share it
Top